ख्वाइश

1 minute read ★ लो आज इन बाँहों की सारी तम्मनाए पूरी करने दो, इन सरसराती हुई आवाजों की सारी…

आख़िर क्यू?

1 minute read ★ आख़िर क्यू कई बार, बात जबां पे आके रुक जाती है, आख़िर क्यू कुछ कही – अनकही यादें, मन को इतना विचलित कर जाती है, क्यू…Continue Reading →