1 minute read ★

बचपन से संझोये थे सपने,
मोतियों की तरह पिरोये थे सपने|

क्या पता था एक दिन हम भी बड़े होंगे,
जीवन की सचाई से हम भी रूबरू होंगे|

बचपन के वो हसीन पल आज भी याद आते है,
दिल को छू कर आँखे नम वो कर जाते है|
वो शैतानियों से भरे दिन आज भी याद आते है,
आज के ये खोखले दिन बड़े सताते हैं|

क्या पता था एक दिन हम भी बड़े होंगे,
जीवन की सच्चाई से हम भी रूबरू होंगे|

The following two tabs change content below.
Staff

Staff

Staff

Latest posts by Staff (see all)

Tags:
Categories: Creativity Wall